fix bar
fix bar
fix bar
fix bar
fix bar
fix bar

हबीब कैफी की कविताएँ

हबीब कैफी
1.

जादू-टोना जानता है
गायब होना जानता

दोस्त है वो गहरा लेकिन
दुश्मन होना जानता है

तेरी आहट को इस घर का
कोना-कोना जानता है

रिश्तों की तुरपाई करना
सीना-पिरोना जानता है

बच्चों को वो हीरे-मोती
चाँदी-सोना जानता है

पाप नहीं है जिस के दिल में
चैन से सोना जानता है

अपने मतलब से ही तो वो
सब कुछ होना जातना है

हँसना आ जाता है उस को
जो भी रोना जानता है।
2

जो मिलने आता है मिल कर जुदा भी होता है
वो खुशमिजाज है लेकिन खफा भी होता है

वो भूल बैठे नशा कर के अपनी दौलत का
नशा कोई भी हो इक दिन हवा भी होता है

कभी-कभी ही सही जेब भारी होती है
कभी-कभी तो ये बन्दा खुदा भी होता है

मैं उस हसीन को ये बात कैसे समझाऊँ
जो बेहतरीन है उस से सिवा भी होता है

तुम्हारी बात का मैंने बुरा कहाँ माना
जो अपना होता है उससे गिला भी होता है

किसी मरीज से कहना कि आप अच्छे हैं
ये बात करने का मतलब दवा भी होता है

ये बात मेरे सिवा जानता नहीं कोई
कि उस की बात में गहरा नशा भीा होता है

कभी जो गालियाँ दे माँ तो ये समझ लेना
कि उस की गाली का मतलब हुआ भी होता है

3

आदमी से सिवा नहीं होता
कोई मसंब बडा नहीं होता

तू भी होता बहुत बुलंदी पर
सिर जो तेरा झुका नहीं होता

लो चलो डूब जाएँ हम दोनों
ऐसा मौसम सदा नहीं होता

उस ने कल रात जो कहा मुझ से
काश मैंने सुना नहीं होता

चलने वाले ही खुद बनाते हैं
रास्ता जब बना नहीं होता

दोस्त होता है अपने जैसा ही
उसमें हीरा जडा नहीं होता

4

उम्र बढाने वाली बात बताने वाला
छोड गया रास्ते में साथ निभाने वाला

जाने पत्थर कैसे उस के हाथ में आए
कुछ दिन पहले फूल था जो बरसाने वाला

आँखे होंगी लेकिन मँजर गायब होंगे
वक्त ऐसा भी दुनिया में है आने वाला

चेरों पर वो रौनक शायद ही फिर लौटे
लौट आएगा यूँ तो रूठ के जाने वाला

शायद इस का नाम मोहब्बत ही होता
रूक जाए जब जाते-जाते जाने वाला

दोहराते हैं लोग मिसालें भी देते हैं
बात गजब कहता है धोखा खाने वाला


सम्पर्क - 72, लाला लाजपतराय कॉलोनी,
पाँचवी चौपासनी रोड, ईदगाह, जोधपुर-३४००३
मो. 8000245673